Ration Card: राशन कार्डधारकों के लिए खडी हो सकती है रोटी की संकट, जानें क्या है कारण?

सभी राशन कार्ड धारकों के थाली में से अब रोटी गायब होने वाला है। क्योंकि सरकार की तरफ से यह क्लियर कर दिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत अब तक मिलने वाला राशन मे गेहूं को हटाकर अब चावल को बढ़ा दिया जाएगा। जहां राशन कार्ड धारकों को 5 किलो अनाज में 3 किलो चावल 2 किलो गेहूं दिया जाता था वही अब सिर्फ 5 किलो चावल ही दिए जाएंगे इससे सभी राशन कार्ड धारकों के रोटी पे संकट आ सकती है।

ration card holder issues

कुछ दिनों पहले जो अफवाह फैली थी कि सरकार की तरफ से अब से महीने में दो बार राशन दिए जाएंगे। सरकार ने स्पष्ट तौर पे कहते हुए इन सब अफवाहों को खारिज किया है। और कहा है कि सभी राशन कार्ड धारकों को महीने में सिर्फ एक बार 35 किलो अनाज दिए जाएंगे वो भी सिर्फ चावल।  कुछ राज्यों में चावल और गेंहू दिए जाएंगे बाकी के राज्यों में सिर्फ चावल का वितरण किया जाएगा। 

राशन कार्डधारकों के लिए खडी हो सकती है रोटी की संकट, जानें क्या है कारण?

जी हां  दोस्तों राशन कार्ड धारकों के लिए खड़ी हो सकती है रोटी की संकट क्योंकि अब सभी राशन कार्ड धारकों के थाली में से अब रोटी गायब होने वाला है। दरअसल इस साल गेहूं की फसल अच्छी नहीं होने के कारण सरकार किसानों से गेहूं की खरीदारी बहुत कम मात्रा में कर पाई है और चावल की खरीदारी अधिक मात्रा में की है। इसलिए सरकार लोगों के राशन कार्ड से मिलने वाले राशन में से गेहूं हटाकर चावल बढ़ा दी है।

जाने क्या है कारण रोटी पे संकट का?

खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने बताया है कि गेहूं की फसलें अच्छी नहीं होने के कारण  इस साल लगभग 55 लाख मिट्रिक टन अतिरिक्त चावल आवंटित की गई है तो। इसका असर कुछ राज्यों में देखने को मिलेगा यानी कि कुछ राज्यों मे केवल चावल दिए जाएंगे। एवं कुछ राज्यों में गेहूं और चावल दोनों दिए जाएंगे। राशन कार्ड धारको को। इस प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में किए गए बदलाव को 1 जून 2022 से लागू किया जाएगा।

सितंबर माह के बाद  मिलने लगेंगे गेहूं।

प्रधानमंत्री कल्याण अन्न योजना के तहत सरकार प्रत्येक माह 80000 टन से भी अधिक गेहूं का वितरण करती थी। इस साल गेहूं की फसलें कम होने के कारण गेहूं का आवंटन भी कम किया गया है। जिससे लोगों को गेहूं का वितरण नहीं किया जाएगा।

सरकार का कहना है कि सितंबर माह के बाद अगर गेहूं की फसलें अच्छी रही तो वे जरूर गेहूं का आवंटन करेंगे। फिर लोगों को गेहूं और चावल दोनों वितरण किया जाने लगेगा। 

गेहूं के जगह अब चावल का वितरण किया जाएगा।

सरकार प्रत्येक माह प्रत्येक परिवार के प्रत्येक सदस्य को 5 किलो अनाज देती है जिसमें से अब तक सरकार 5 किलो अनाज में 3 किलो चावल 2 किलो गेहूं दिया करती थी। मगर 1 जून के बाद से सरकार राशन कार्ड में बदलाव की है इस बदलाव में सरकार अब 5 किलो अनाज में केवल 5 किलो चावल क हीं वितरण करेगी।

किस किस राज्य में गेहूं की मात्रा घटाकर चावल की मात्रा बढ़ा दी गई है?

सरकार द्वारा राशन कार्ड में नए नियम लागू किए गए हैं इस नियम के अनुसार कुछ राज्यों में राशन कार्ड के जरिए दिया जाने वाला अनाजों में गेहूं की मात्रा घटा दी जाएगी या गेहूं का वितरण नहीं की जाएगी और गेहूं के जगह पर चावल की मात्रा बढ़ाकर दी जाएगी। वहीं कुछ राज्यों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

जैसे सरकार देते आई है 3 किलो चावल 2 किलो गेहूं वैसे ही उन राज्यों में देगी अगर आप जानना चाहते हैं कि कुछ राज्यों में कहीं आपके राज्य तो शामिल नहीं। तो चलिए एक नजर डाल लेते हैं किन किन राज्यों में नए नियम लागू किए गए हैं।

इन राज्यों में गेहूं की मात्रा घटा दी जाएगी या क्योंकि वितरण पर रोक लगा दी जाएगी।

  • उत्तर प्रदेश
  • बिहार
  • पश्चिम बंगाल
  • महाराष्ट्र 
  • उत्तराखंड 
  • दिल्ली 
  • गुजरात 
  • मध्य प्रदेश
  •  केरल
  •  झारखंड

इन सभी राज्यों में गेहूं की मात्रा घटा दी जाएगी या फिर गेहूं नहीं दी जाएगी। इन राज्यों के राशन कार्ड धारकों को गेहूं नहीं दिए जाएंगे गेहूं के जगह पर चावल बांटे जाएंगे

राशन कार्ड की पात्रता क्या है?

यदि आप राशन कार्ड का लाभ पाना चाहते हैं। तो आपको राशन कार्ड बनवाना होगा। राशन कार्ड वही लोग बनवा सकते हैं जो सरकार द्वारा तय की गई पात्रता के अंतर्गत आते हैं।अर्थात जो परिवार या व्यक्ति गरीबी रेखा के अंतर्गत आएंगे सरकार उन्हीं को देगी राशन कार्ड बनवाने की इजाजत।तो आइए एक नजर डाल लेते हैं कि सरकार द्वारा तय की गई पात्रता क्या है?

  • राशन कार्ड का लाभ पाना चाहते हैं तो आपके पास आय प्रमाण पत्र का होना चाहिए।
  • राशन कार्ड बनाने की परमिशन उन्हीं  लोगो को हैं जो अन्य राज्यों से राशन कार्ड का लाभ नहीं ले रहे हैं।
  • राशन कार्ड वही लोग बनवा सकते हैं जो गरीबी रेखा से नीचे अपना जीवन यापन करते हैं।
  • ऐसे व्यक्ति जिनकी आय लाखों में है वे राशन कार्ड नहीं बनवा सकते है अगर वे ऐसा करते हैं तो यह गैरकानूनी माना जाएगा।
  • राशन कार्ड का लाभ पाने के लिए आपके पास राशन कार्ड बनवाने के लिए सारे आवश्यक दस्तावेज होने चाहिए। नहीं तो आपको राशन कार्ड नहीं मिलेगा
  • जिनके घरों में केवल दो पहिया वाला वाहन है वही राशन कार्ड बनवा सकते हैं। 
  • अगर चार पहिया वाला वाहन या तीन पहिया वाला वाहन है और राशन कार्ड बनवाते हैं तो यह गैरकानूनी माना जाएगा। उनपर कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है।

क्यों लेना पड़ा सरकार को यह फैसला?

दरअसल राशन कार्ड में किए गए बदलाव को लेकर खाद्य सचिव सुधांशु पांडे ने कहा है कि इस साल गेहूं के बजाय चावल आवंटित किए गए हैं जोकि लगभग 55 लाख मिट्रिक टन हैं। इसका असर कुछ राज्यों में देखने को मिलेगा मतलब कुछ राज्यों मे केवल चावल दिए जाएंगे और कुछ राज्यों में चावल गेहूं दोनों दिए जाएंगे। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में किए गए बदलाव को 1 जून 2022 से लागू किया जाएगा। 

दूसरे लाभदायक पोस्ट पढ़ें

Important Links

WTeckni HomeClick Here
Other postsClick Here
Join Telegram ChannelClick Here

निष्कर्ष

सभी राशन कार्ड धारकों के लिए नई अपडेट लेकर आए हैं इस आर्टिकल में Ration Card: राशन कार्डधारकों के लिए खडी हो सकती है रोटी की  संकट, जानें क्या है कारण? यहां हमने आपको पूरी जानकारी दी है आपको बताया है कि सरकार के द्वारा यह फैसला क्यों लिया गया क्यों गेहूं की मात्रा हटाकर चावल की मात्रा बढ़ा दी गई है। इन सब सवालों के जवाब आपको इस आर्टिकल में मिल जाएंगे तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Wasim Akram

वसीम अकरम WTeckni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment