MS Office क्या है और एम. एस ऑफिस की विशेषताएं

कंप्यूटर सीखने वाले जानते हैं की कंप्यूटर के अंतर्गत बहुत सारे कोर्स हैं लेकिन अगर आपको कंप्यूटर की सबसे बेसिक ऍप्लिकेशन के बारे में नहीं जानते तो आपको काम करने में काफी दिक्कत आ सकती है इसीलिए सभी को ये समझना जरुरी है की MS Office क्या है (What is MS Office in Hindi) और एम. एस ऑफिस की विशेषताएं क्या है? जब आप जान जायेंगे की एम. एस ऑफिस का प्रयोग क्या है तो यह आगे लिए काफी फायदेमंद भी होगा.

MS Office जिसे हम Microsoft Office भी कहते हैं यह माइक्रोसॉफ़्ट के अंतर्गत बनाया गया एक लोकप्रिय ऑफिस सुइट है. यह एक ऐसा पैकेज है जिसके द्वारा ऑफिस से जुड़े सभी काम किया जा सकता है. ऑफिस से जुड़े विभिन्न प्रकार के कार्य होते हैं जिसके लिए कई सॉफ्टवेयर का पैकेज माइक्रोसॉफ्ट ने बनाया है.

इस पैकेज के अंतर्गत कई सॉफ्टवेयर हैं जैसे वर्ड, एक्सेल, पॉवरपॉइंट इत्यादि. तो अगर आपको इन के बारे में पूरी जानकारी नहीं है तो आज इस आर्टिकल में इस सॉफ्टवेयर पैकेज के बारे में विस्तार से जानेंगे. इसके अंतर्गत हम आपको बताएँगे की MS Office क्या है और इसके प्रयोग क्या हैं? इस पैकेज के द्वारा क्या काम होता है एवं इसके क्या उपयोग हैं?

वैसे यहाँ हम इसके अलावा भी कई तथ्यों पर बात करेंगे जैसे की MS Office का फुल फॉर्म क्या होता है और इसका इतिहास क्या है? जैसा की हम सभी जानते है की आज हर जगह कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जा रहा है चाहे वह एक छोटा सा हॉस्पिटल हो या बड़ा सा कोई कॉलेज, होटल सभी मे किसी ने किसी कार्य के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल होते ज़रूर मिल जाएगा.

कंप्यूटर का उपयोग आज इतना ज्यादा किया जा रहा है कि इसके बिना आज काम करना असंभव सा लगने लगता है हो सकता है. शायद आपने इन सबके बारे में जानने की कोशिश नही की होगी और यदि की भी होगी तो आपको इसके बारे में उचित जानकारी नही मिल पाई होगी.

लेकिन आज हम आपको ऑफ़िस सॉफ्टवेयर सूट के बारे में एक-एक चीज के बारे में विस्तार से बताने जा रहे है तो यदि आप माइक्रोसॉफ्ट के बारे में डिटेल में जानना चाहते है तो इस अर्टिकल को ध्यान पूर्वक नीचे तक पढ़े.

MS Office क्या है – What is MS Office in Hindi?

MS ऑफिस माइक्रोसोफ्ट कंपनी द्वारा बनाई गयी एक Client सॉफ्टवेर है जिसे पहली बार 1 अगस्त 1988 को बिल गेट्स द्वारा Las Vegas में लॉन्च किया गया. शुरू में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में पॉवरपॉइंट, एक्सेल, और वर्ड ये सिर्फ 3 ही फीचर थे.

लेकिन आज माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस में आपको कई बेहतरीन फीचर देखने को मिल जायँगे जो हमारे कार्य को आसान करते है. माइक्रोसॉफ्ट को मुख्य रूप से ऑफिस में होने वाले काम जैसे डॉक्यूमेंट बनाने, डेटा टेबल बनाने, फ़ाइल बनाने,आदि के लिए बनाया गया था.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के अब तक वर्शन आ चुके है जिन पर काम किया जा चुका है लेकिन अभी माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का जो लेटेस्ट वर्शन है वह ऑफिस 2019 है जिस पर अभी काम किया जा रहा है.

माइक्रोसोफ्ट ऑफिस एक विशेष प्रकार के सॉफ्टवेर का एक समूह होता है जिसमें Microsoft Word, Microsoft Excel, Microsoft PowerPoint, Microsoft OneNote, Microsoft Outlook, Microsoft Access आदि प्रकार के सॉफ्टवेर होते है. ये सभी सॉफ्टवेर अलग अलग अपने काम के लिए प्रयोग होते है जिसके बारे में हम नीचे विस्तार से जानेंगे.

एमएस ऑफिस का फुल फॉर्म क्या है?

MS Office का पूरा नाम Microsoft Office है.

इसे हिंदी में माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस भी कहा जाता है जिसका अर्थ होता है माइक्रोसॉफ्ट कार्यालय.

आपने भी अपने किसी कार्य के लिए कंप्यूटर का इस्तेमाल ज़रूर किया होगा. यदि आप स्टूडेंट है या किसी कार्यालय में वर्क करते है तो आपने अपने कंप्यूटर पर किसी ना किसी या माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर के जरिये अपनी किसी फ़ाइल को बनाने, रिज्यूम बनाने, डॉक्यूमेंट बनाने आदि के लिए कंप्यूटर पर माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस का use ज़रूर किया होगा.

अब क्या आप जानते है कि आपने कंप्यूटर पर जिस माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर के जरिये अपने डाक्यूमेंट्स तैयार करते है और रिज्यूमे बनाते हैं तो जान लीजिये की वह माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस ही है और अब चली समझ लेते हैं की यह कैसे काम करता है.

एमएस ऑफिस के कार्य

माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस में विभिन्न प्रकार ले काम करने वाले बहुत से सॉफ्टवेयर का एक समूह होता है. हर सॉफ्टवेयर अपने अलग अलग काम के लिए बना होता है जैसे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड किसी डॉक्यूमेंट फाइल बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है और एम एस एक्सेल वर्ड शीट बनाने में प्रयोग होता है.

एम एस पॉवरपॉइंट ऑफ़िस या फिर किसी और जगह के लिए प्रेजेंटेशन के लिए प्रयोग किया जाता है एम एस आउट लुक ईमेल और कैलेंडर को मैनेज करने के लिए प्रयोग किया जाता है ऐसे ही एम एस ऑफ़िस के सारे सॉफ्टवेयर किसी ना किसी स्पेसिफिक काम के लिए बने होते है.

दोस्तों जैसा कि इसमे कोई शक नही है कि आज कंप्यूटर ने दुनिया भर में एक नई क्रांति पैदा कर दी है. आज कंप्यूटर में हमे ऐसे-ऐसे सॉफ्टवेयर मिल जाते है जिनकी मदद से हम घंटो के कार्य को कुछ ही सेकंड में निपटा लेते है.

जैसे माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर जिसने व्यक्ति के कामों को काफी आसान कर दिया है इस बात को हम सभी जानते है कि जब कंप्यूटर माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर नही थे तब हमें ऑफ़िस के किसी आवश्यक कार्य फ़ाइल बनाने में कई घंटो दिन लग जाते थे.

किसी बिज़नेस संबंधित कार्य कामों को करने के लिए कई दिन लग जाते थे लेकिन आज जब से माइक्रोसॉफ्ट आया है तब से यह काम बेहद सरल हो गए है.

मतलब की माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस सॉफ्टवेयर का use करके आसानी से कुछ ही समय मे फ़ाइल को बनाया जा सकता है और बिज़नेस के कार्य काफी कम समय मे किया जा सकता है.

आज माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस एक ऐसा सॉफ्टवेयर बन गया है जो दुनिया भर में सबसे ज्यादा लोकप्रिये सॉफ्टवेयर माना जाता है.

जब यह दुनिया भर में इतना ज्यादा लोकप्रिये है और हमारे इतने कामों को आसान करता है तो क्यो ना इसके बारे में डिटेल में जा ले जैसे कि माइक्रोसॉफ्ट ऑफ़िस क्या है, इसका इतिहास क्या है और इसके क्या-क्या कंपोनेंट है. ऐसी अन्य कई तरह की जानकारी जो माइक्रोसॉफ्ट से जुड़ी हुई है. चलिये इन सब के बारे में डिटेल में जानते है:

एमएस ऑफ़िस के कॉम्पोनेंट

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है कि माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस कई छोटे छोटे कॉम्पोनेन्ट सॉफ्टवेयर से मिलकर बना होता है जिनके अपने-अपने अलग कार्य होते है अब वह कौंन से कॉम्पोनेन्ट होते उसकी लिस्ट निम्लिखित है:

  • एम एस एक्सेस (Microsoft Excel)
  • एम एस इन्फोपाथ डिज़ाइनर (Microsoft InfoPath Designer)
  • एम एस इन्फोपाथ फिलर (Microsoft InfoPath Filar)
  • एम एस वन नोट (Microsoft OneNote)
  • एम एस पॉवरपॉइंट (Microsoft Power Point)
  • एम एस आउटलुक (Microsoft Outlook)
  • एम एस वर्ड (Microsoft Word)
  • एम एस पब्लिशर (Microsoft Publisher)
  • एम एस एक्सेस (Microsoft Access)

ये सभी ऑफ़िस के कम्पोनेंट है.

एमएस ऑफिस का इतिहास

माइक्रोसोफ्ट ऑफिस पहली बार 1 अगस्त 1988 को बिल गेट्स द्वारा Las Vegas में लॉन्च किया गया और तब इसके सिर्फ 3 कम्पोनेंट थे जो एम एस वर्ड, एमएस एक्सेल, एम एस पॉवरपॉइंट थे.

लॉन्च के बाद एम एस ऑफिस के अपडेट आये जिसमे सबसे पहले Spell checker का फ़ीचर ऐड किया गया जिस से कोई भी गलत वर्ड हाईलाइट हो जाता था.

इसके बाद OLE डाटा इंटीग्रेशन का फीचर ऐड किया गया इसके बाद विसुअल वेसिक फॉर एप्लीकेशन स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का फ़ीचर ऐड किया गया और ऐसे ही माइक्रोसॉफ्ट द्वारा बहुत से अपडेट ऐड किये गये और फिर बाद में माइक्रोसॉफ्ट ने बिज़नस ऑफिस के लिए 10 जुलाई 2012 को एम एस ऑफिस का न्यू एडिशन लॉन्च किया.

जिसका नाम ऑफिस बिज़नस एप्लीकेशन था ये एडिशन बिज़नस के काम के लिए लॉन्च किया गया था. अब एम एस ऑफ़िस विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम और मैक ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए और एंड्राइड और IOS के लिए भी स्टोर में उपलब्ध है. ऑफिस का सबसे लेटेस्ट वर्शन ऑफिस 2019 है जो 24 सितम्बर 2018 को रिलीज़ किया गया.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस वर्शन का इतिहास

  • Microsoft Office 95
  • Microsoft Office 97
  • Microsoft Office 2000
  • Microsoft Office XP
  • Microsoft Office 2003
  • Microsoft Office 2007
  • Microsoft Office 2010
  • Microsoft Office 2013
  • Microsoft Office 2016

एमएस ऑफिस का महत्व

यह दुनिया का सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाने वाला ऑफ़िस टूल बन गया है. इसका महत्व हमारी लाइफ में अब बहुत बढ़ गया है ये ऑफ़िस, बैंक, रेलवे स्कूल और बहुत जगह प्रयोग होता है.

अगर हमें कोई डॉक्यूमेंट बनाना है या फिर रिज्यूम या फिर कोई और डॉक्यूमेंट बनाना है तो भी हमे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड का प्रयोग करना होगा और अगर कोई प्रेजेंटेशन देना हो तो पॉवरपॉइंट का प्रयोग करना ही होगा ऐसे ही इस के हर सॉफ्टवेर का अपना अलग अलग उपयोग होता है.

एमएस ऑफिस का उपयोग

बाकी माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस के बारे में इतना सब कुछ पढ़ने के बाद आपको समझ में आ ही गया होगा कि आख़िर इस सॉफ्टवेयर सूट का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है.

इसके कुछ उपयोग के बारे में आप यहां पढ़ कते है:

माइक्रोसॉफ्ट आफिस के आने की वजह से आज हम अपने काम चाहे वह कॉलेज का कोई काम हो या फिर किसी ऑफिस काम आसानी से कम समय मे कर लेते है.

  1. डॉक्यूमेंट आसानी से बनाये जा सकते है.
  2. इससे स्प्रेड शीट जो की एक्सेल में बनती है बना सकते है.
  3. पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन तैयार किया जा सकता है.
  4. इस के द्वारा हम वेब पेज प्रीव्यू देख सकते है की पेज वेब ब्राउज़र पे कैसा दिखेगा.
  5. वेबसाइट से संबंधित फाइल्स को आसानी से बनाया जा सकता है.
  6. वेब पेज भी तैयार कर सकते है.
  7. इस सूट से 100 से भी ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है. हम किसी भी भाषा में डाक्यूमेंट्स बना सकते है.

एमएस ऑफ़िस के फायदे

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक ऐसा सॉफ्टवेयर जिसकी हेल्प से कई हम अपने कई तरह के कठिन कामो को आसानी से कर सकते है जहां हमे अपना रिज्यूम, फ़ाइल आदि बनाने के लिए काफी समय लगता है और आज उसी काम को हम माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस की मदद से काफी कम समय मे कर सकते है.

माइक्रोसॉफ्ट अनेक फायदे है जिनके बारे में आप नीचे देख सकते है:

  • माइक्रोसॉफ्ट आफिस एक ऑनलाइन काम करने वाला सॉफ्टवेयर है. जिसकी मदद से हम कही भी कभी भी अपना कार्य कर सकते है.
  • माइक्रोसॉफ्ट में कई तरह के अन्य सॉफ्टवेयर है जिनकी मदद से हम अपने कई तरह के कार्य जैसे लेटर लिखना, पीडीएफ बनाना, फ़ाइल बनाना आदि कार्य को आसानी से कम समय मे कर सकते है.
  • इसकी मदद से आप बिज़नेस से जुड़ी ज़रूरतों को पूरा कर सकते है.

यह माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा लांच किया गया एक बहुत ही Useful सॉफ्टवेयर है जिसने व्यक्ति के कामों को काफी आसान कर दिया है. माइक्रोसॉफ्ट आज 35 से भी ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है. इस के विभिन्न तरह के वर्शन को बाजार में लाया गया था लेकिन अभी इसका लेटेस्ट वर्शन 2019 है. जिसे कंप्यूटर यूज़र अपनी आवश्यकता के अनुसार कंप्यूटर में इनस्टॉल कर सकते है..

इस प्रोग्राम का आज दुनिया भर में फ़ाइल, डॉक्यूमेंट डेटा टेबल आदि बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे पॉपुलर सॉफ्टवेयर है. समय लगभग माइक्रोसॉफ्ट आँफिस सॉफ्टवेयर के 1.2 मिलियन से भी ज्यादा यूजर मौजूद है जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि माइक्रोसॉफ्ट कितना पॉपुलर सॉफ्टवेयर है.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस से जुड़े अन्य सवाल

MS Office का क्या उपयोग है?

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा बनाया गया ऑफिस से जुड़े कारोब को करने के लिए बनाया गे एक ऑफिस सूट है जिसका उपयोग दस्तावेज को तैयार करने, गणना करने, प्रेजेंटेशन बनाने, डेटाबेस मैनेजमेंट में किया जाता है.

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस कितने प्रकार के होते हैं?

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस का कोई प्रकार तो नहीं है लेकिन इसके अलग अलग वर्शन हैं जो समय के साथ रिलीज़ किये जाते हैं अभी तत्काल में इसका लेटेस्ट वर्शन Microsoft 365 है.

माइक्रोसॉफ्ट का मालिक कौन है?

माइक्रोसॉफ्ट का मालिक बिल गेट्स है?

माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस क्या है [वीडियो]

इन्हें भी पढ़ें:

संक्षेप में

कंप्यूटर में किये जाने वाले लगभग हर काम में इस सॉफ्टवेयर सूट की जरुरत पड़ती ही है. इसमें लगभग हर प्रकार के ऑफिसियल कामो को करने में मदद करती है. यहाँ हमने आपको जानकारी दी की इस सॉफ्टवेयर सूट के कॉम्पोनेन्ट क्या हैं. इस आर्टिकल में हमने आपको ये भी बताया की इसका क्या इतिहास है और इसके क्या फायदे हैं.

हम उम्मीद करते हैं की अब आपको ये अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा की MS Office क्या है (What is MS Office in hindi) और एम. एस ऑफिस . अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे दोस्तों के साथ भी जरूर साझा करें.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTeckni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment