कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

कंप्यूटर और लैपटॉप का बिजनेस आज के जमाने में अधिक विस्तार से फैल रहे हैं क्योंकि सिस्टम का यूज़ लगभग सभी लोग अपने कार्य को करने के लिए करते हैं. आज आप हमारे इस आर्टिकल के माध्यम से जानेंगे कि कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस कैसे शुरू करें?

हमारे देश के साथ-साथ अन्य देशों में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का  इस्तेमाल इतना ज्यादा बढ़ गया है कि लोग अपना हर एक कार्य को सिस्टम के अनुसार करते हैं और जब सिस्टम का इस्तेमाल इतने अधिक मात्रा में हो रहा है  तो इसकी खराब होने की संभावना भी होती है इसलिए कंप्यूटर और लैपटॉप का रिपेयरिंग बिजनेस करना एक अच्छा विकल्प है.

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस क्या है?

लैपटॉप और कंप्यूटर ऐसा सिस्टम है जो आजकल की जनरेशन में हर एक व्यक्ति के पास कार्य करने के लिए उपलब्ध रहते हैं लोग अपने ऑफिशियल वर्क या अन्य कामों की लिस्ट अपने लैपटॉप या कंप्यूटर में लोड करके रखते हैं.

इस प्रकार लोगों में इन सिस्टम का यूज बढ़ते जा रहा है और लोग इसे अधिक से अधिक संख्या में खरीदारी भी कर रहे हैं.

अब बात आती है कि जब सिस्टम का इतना संख्या में यूज़ हो रहा है तो सिस्टम खराब तो होगी क्योंकि यह तो मशीनों से बनी होती है और मशीनों में कुछ ना कुछ खराबी तो आती रहती है इसलिए यदि सिस्टम खराब हो जाए तो उसे रिपेयर करने के लिए रिपेयरस को बुलाया जाता है ताकि सिस्टम को ठीक किया जाए.

जिस तरह कंप्यूटर और लैपटॉप का उपयोग बढ़ रहा है ठीक उसी प्रकार लैपटॉप कंप्यूटर रिपेयर की प्रक्रिया भी बढ़ती जा रही है क्योंकि जितना ज्यादा सिस्टम हम यूज करते हैं उतना ज्यादा उसमें खराबी भी आती है जिसे ठीक करना एक रिपेयर का काम होता है.

कंप्यूटर और लैपटॉप में विभिन्न प्रकार की समस्याएं आती है जिससे लोग ठीक कराने के लिए उस कंपनी में ले जाते हैं या तो कुछ लोग अपने सिस्टम को रिपेयर करवाने के लिए रिपेयर को बुलाते हैं इस प्रकार लैपटॉप या कंप्यूटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज खराबि को ठीक करना ही रिपेयरिंग का काम कहलाता है.

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग के प्रमुख कारक

कंप्यूटर स्किल:-

यदि आप लैपटॉप और कंप्यूटर रिपेयरिंग करने का बिजनेस शुरू करना चाह रहे हैं तो आज की जनरेशन में आपका यह बिजनेस बहुत ही जोरों शोरों से चलेगा क्योंकि आज की जनरेशन में जितना ज्यादा इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज का इस्तेमाल किया जाता है उतना ही ज्यादा उसमें खराबी भी आती है जिसे ठीक करना एक रिपेयर का कार्य होता है.

ऐसे में यदि आप लैपटॉप और कंप्यूटर का रिपेयरिंग बिजनेस शुरू करते हैं तो यह बिजनेस आपके लिए बहुत ही लाभदायक साबित होगा.

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपके पास कुछ स्किल्स का होना जरूरी है तभी आप इस बिजनेस को अच्छी तरीके से चला पाएंगे. यदि आप इस बिजनेस को स्टार्ट करना चाह रहे हैं तो आपके पास कंप्यूटर की जानकारी होनी जरूरी है जिसमें खासकर आप सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर की जानकारी रखें तभी आप अपने कस्टमर को सही तरीके से उसके सिस्टर को ठीक कर के दे सकते हैं.

आप अपने बिजनेस में जितने भी कर्मचारियों को रखते हैं तो उसे रखने के पहले उसकी कार्यक्षमता को जान ले कि उनके पास कंप्यूटर की जानकारी है या नहीं, इस प्रकार आपको कंप्यूटर की सारी जानकारी जननी होगी तभी आपका बिजनेस अच्छे तरीके से चल पाएगा.

नॉलेज को प्रतिदिन बढ़ाएं:-

यदि आप कंप्यूटर और लैपटॉप के रिपेयरिंग बिजनेस को शुरू किए हैं तो इसके लिए आपको प्रत्येक दिन इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से संबंधित नई-नई जानकारियां अध्ययन करनी चाहिए इससे आप दिन प्रतिदिन अपने नॉलेज को बढ़ा पाएंगे जिससे आप सिस्टम में किसी भी समस्याओं को आसानी ठीक करने में सक्षम होंगे. 

जब आप अपने कस्टमर को सही तरीके से ठीक कर के उसके सिस्टम उन्हें देंगे तो कस्टमर का विश्वास आपके प्रति बढ़ेगा इससे आपका बिजनेस और तेजी गति से खेलेगा.

आप सिस्टम से संबंधित नहीं-नहीं जानकारियां घर बैठे अपने फोन के माध्यम से सीख सकते हैं इसके लिए कोई खास ट्यूशन करने की आवश्यकता नहीं है. आप अपने घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर और लैपटॉप की नई-नई नॉलेज दिन प्रतिदिन प्राप्त करते रहें इससे आपके नॉलेज भी बढ़ेगी और आपके बिजनेस भी अच्छा चलेगा.

बेसिक सर्टिफिकेट:-

अगर आप कंप्यूटर और लैपटॉप के रिपेयरिंग बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए कोई सर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं है लेकिन यदि आपको कोई कॉर्पोरेट क्लाइंट के साथ डील करनी हो तो आपको कुछ सर्टिफिकेट रखना आवश्यक है.

यदि आप अपने बिजनेस के अंदर कर्मचारियों को रखना चाह रहे हैं तो उन लोगों के लिए कंप्यूटर की सर्टिफिकेट की आवश्यकता होती है उन कैंडिडेट को कंप्यूटर से संबंधित जानकारियों को जानने के लिए क्लास भी करना होता है जिसकी अवधि 1 महीने से 3 साल की होती है तभी उन्हें इस प्रकार की कंपनियों में जॉब मिल पाता है.

अच्छी ग्राहक सेवा:-

यदि आप इस बिजनेस को शुरू कर रहे हैं तो आपको अपने कस्टमर से अच्छी तरीके से बातचीत करनी होगी. अच्छी ग्राहक सेवा देने का मतलब यह है कि आप हमसे अच्छी तरीके से व्यवहार करें.

लोगों को कभी-कभी अपने सिस्टम खराब होने से इरिटेशन फीलिंग होती है जिसे आप को जल्दी बनाने के लिए कहे उस समय आप धैर्य और संयम के साथ साथ विनम्रता पूर्वक उनसे बात करें और उन्हें समझाएं.

बिजनेस के लिए स्थान का चुनाव:-

अगर आप कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस करना चाह रहे हैं तो  यह व्यवसाय घरों से भी आसानी पूर्वक की जा सकती है. लेकिन यदि आपको अपना बिजनेस अपने मार्केट में विस्तार करनी है.

इसके लिए आपको ऐसे स्थान का चुनाव करना होगा जहां कंप्यूटर और लैपटॉप की रिपेयरिंग का मार्केट हो ऐसे स्थान में जब आप इस बिजनेस को शुरू करेंगे तो आपका बिजनेस बहुत ही शानदार तरीके से चलेगा.

इस बिजनेस को स्टार्ट करने के लिए आपको लगभग  100 वर्ग मीटर जमीन की आवश्यकता होगी ,जिसमें आप अपने सिस्टम को आसानी से रख सकते हैं और आपके दुकान में लाया गया सिस्टम्स को रखने के लिए भी अच्छी पूर्वक जगह उपलब्ध रहेगी.

व्यवसाय रजिस्ट्रेशन एवं लाइसेंस:-

आप जिस भी व्यवसाय का शुरुआत करते हैं उसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस लेना अनिवार्य है क्योंकि यदि आप बिना रजिस्ट्रेशन या लाइसेंस का कोई बिजनेस चला रहे हैं तो वह एक इलीगल बिजनेस माना जाएगा जिससे आपको फ्यूचर में कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

इसलिए यदि आप इस बिजनेस को शुरू करने के लिए सोच रहे हैं तो इसके लिए आपको रजिस्ट्रेशन और इसका लाइसेंस दोनों प्राप्त करना होगा. 

ऑफिस का ऑफिशियल वेबसाइट के माध्यम से इसका रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं और रही बात लाइसेंस की तो आप अपने नगर पालिका के कार्यालय में जाकर लाइसेंस की अर्जी कर सकते हैं जिसमें कुछ दिन बाद आपको नगर पालिका की ओर से लाइसेंस मिल जाएगी.

ग्राहकों को कौन सी सर्विस दे इसका निर्णय कर ले:-

अगर आप इस बिजनेस को शुरू करते हैं तो शुरू करने से पहले आपको यह निर्णय लेना होगा कि आप ग्राहकों को कौन-कौन से सर्विस देना चाहते हैं, जब आप ग्राहकों को जो सर्विस आप देंगे उसका निर्णय पहले ही लेते हैं तो इससे आपको उस सर्विस से संबंधित इंस्ट्रूमेंट्स की खरीदारी आपको करने में कोई परेशानी नहीं होगी.

इस बिजनेस के अंतर्गत ऐसी कई सेवाएं हैं जो ग्राहकों को दी जाती है जैसे सॉफ्टवेयर अपग्रेड, नेटवर्किंग,सॉफ्टवेयर सपोर्ट एवं प्रशिक्षण.

इन सभी सेवाओं में आपको यह चयन करना होगा कि आप किस सेवा को ग्राहक को देना चाहते हैं और किस सेवा के अंतर्गत आप बिजनेस खोलना चाहते हैं इससे आप बिजनेस को आसानी से चला पाएंगे.

उपकरण एवं कलपुर्जे की खरीदारी:-

इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको सिस्टम्स में प्रयोग की जाने वाली उपकरण और टूल्स की आवश्यकता होगी जिसे आप को खरीदारी करनी है. यदि आप पहले किसी डिवाइस स्टोर में काम कर चुके हैं तो आपको इन सभी टूल्स को खरीदने की जानकारी होगी जिससे आप इसे कम दामों में खरीद सकते हैं.

कल पुर्जों की खरीदारी करने के बाद आप अपने बिजनेस को सही तरीके से चला सकते हैं इसलिए आवश्यक इंस्ट्रूमेंट्स और उसकी पहले से ही खरीदारी कर ले.

इसकी मार्केटिंग कैसे करें:-

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस की मार्केटिंग आपको विभिन्न तरीके से करनी होगी तभी आपका बिजनेस सक्सेसफुली चल पाएगा.

आप अपने बिजनेस के लिए एक स्टोर खोलें हैं उसको खोलने के साथ-साथ आपको अपने बिजनेस की सारी इनफार्मेशन सोशल मीडिया में शेयर करना चाहिए ताकि कस्टमर आपके दुकान में रिपेयर कराने के लिए सिस्टम को लेकर आए.

इसके साथ-साथ और कई तरीके की तकनीक को अपनाएं ताकि आपका बिजनेस और आपको अधिक प्रॉफिट प्राप्त हो.

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों  तरीके से चल रही है, कई व्यापारी अपने बिजनेस को चलाने के लिए स्टोर खोले हुए हैं तो कई लोग इसका ऑनलाइन सेवा देते हैं जिसमें वह घर जाकर खुद सिस्टम को रिपेयर करते हैं.

निवेश और लाभ:-

अगर आप कंप्यूटर और लैपटॉप की रिपेयरिंग बिज़नस करने के लिए विचार विमर्श कर रहे हैं तो इसके लिए आपको स्टार्टिंग में कुछ पैसे इन्वेस्टमेंट करने होंगे क्योंकि कोई भी बिजनेस बिना इन्वेस्टमेंट के आगे नहीं बढ़ता.

आप को शुरुआती में 10 से 1500000 रुपए इस बिजनेस में खर्च करने होंगे क्योंकि इस बिजनेस को चलाने के लिए कुछ आवश्यक टूल्स और उपकरण की आवश्यकता होती है.

इसके साथ साथ स्थान की भी आवश्यकता होती है और इन सभी की लागत 10 से 1500000 रुपए लग ही जाएगी इसलिए जब आप इस बिजनेस को शुरू कर रहे हैं तो आपके पास इतने पैसे होने चाहिए.

जब आप इतने पैसे लगाकर बिजनेस सेटअप करते हैं तो कुछ समय बीतते बीतते आपका बिजनेस इस तरीके से सेटल हो जाएगा कि आपको इस बिजनेस के माध्यम से बाकी अधिक लाभ प्राप्त होगा क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज कब और कैसे खराब होती है यह पता तो नहीं चलता.

इसकी रिपेयरिंग की बिजनेस करने से लोगों को बहुत ही लाभ प्राप्त होता है कंप्यूटर और लैपटॉप बहुत ही अधिक मात्रा में प्रयोग किए जा रहे हैं.

सरकारी लोन की जानकारी:-

यदि आप कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग की बिजनेस शुरू करना चाहते हो और आपके पास इसे शुरू करने के लिए प्राप्त नहीं है तो आप सरकारी लोन ले सकते हैं जिसमें आपको कम ब्याज दर में किसती के अनुसार चुकाने होंगे.

लोगों को लेने के लिए आपको सरकारी लोन की सारी जानकारी होनी आवश्यक है जब आप  सरकारी लोन की सारी जानकारी जानेंगे तभी आप कम ब्याज दर में सरकारी लोन को ले पाएंगे.

इसलिए अन्य लोगों से भी सरकारी लोन की सारी क्रियाकलापों को जान ले और फिर सरकारी लोगों के लिए अप्लाई करें.

निष्कर्ष

कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस व्यापारियों के लिए बहुत ही अच्छा विकल्प है क्योंकि आज की जनरेशन में इस सिस्टम का यूज अधिकतर लोग करने लगे हैं. 

आज हमने आपको बताया कि कंप्यूटर और लैपटॉप रिपेयरिंग बिजनेस को कैसे शुरू करें? आशा है आपको हमारा या आर्टिकल पसंद आया हो.

Wasim Akram

वसीम अकरम WTeckni के मुख्य लेखक और संस्थापक हैं. इन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है लेकिन इन्हें ब्लॉगिंग और कैरियर एवं जॉब से जुड़े लेख लिखना काफी पसंद है.

Leave a Comment